कोरोनावायरस, फ्लू, एलर्जी और सर्दी ज़ुकाम के लक्षण में अंतर

कोरोनावायरस लक्षण
coronavirus symptoms

कोरोनावायरस की पहचान – Sign and Symptoms of Coronavirus in Hindi

  • कोरोनावायरस से दुनिया भर में 492000 से अधिक लोगों को संक्रमित कर चुका है।
  • इस बीमारी की वजह से दुनिया बिलकुल रुक सी गयी है, हवाई यात्रायें बाधित है, कई शहरों में कर्फ्यू की सी हालत है , लोगों में डर का माहौल बना हुआ है |
  • मामूली खांसी और गले में खरास लोगों को अतिउत्तेजित कर रही है |
  • हर तरफ कोरोना वायरस की नकारात्मक ख़बरें सुनसुनकर यह स्वाभाविक है कि लोग हर बार अपने गले में एक गुदगुदी या एक बुरी खांसी की शुरुआत महसूस कर सकते हैं। 
  • हालांकि कोरोनोवायरस को निश्चित रूप से गंभीरता से लेने की ज़रूरत है लेकिन इसके साथ यह भी समझने की ज़रूरत है की कोरोना वायरस हर किसी को संकर्मित नहीं कर सकता है, और ये कि हर वो शख्स जिसको खांसी या ज़ुकाम है उसका कोरोना ही है ऐसा सोचना हमें और कमज़ोर बनाता है |
  • इसलिए हमें इसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए कि कोरोना वायरस, फ्लू,सर्दी ज़ुकाम और अलर्जी के लक्षणों में भेद कैसे करें |
कोरोनावायरस

कोरोनावायरस, फ्लू, एलर्जी और आम सर्दी ज़ुकाम के लक्षणों की पहचान कैसे करें- How to differentiate between symptoms of Coronavirus, Flu, Allergy and Cold in Hindi

लक्षण (Symptoms)नोवेल कोरोनावायरस (COVID -19 )सर्दी / ज़ुकाम (Common Cold )फ्लू (Flu)एलर्जी (Allergies)
बुखार (Fever)नोवेल कोरोना वायरस में बुखार सामान्यतः पाया जाता है |बहुत ही कमसामान्य तौर पर पाया जाता है |कभी कभी
सूखी खांसी (Dry Cough)नोवेल कोरोना वायरस में सुखी खांसी सामान्य तौर पर पायी जाता है |खांसी होती है मगर बिलकुल मामूलीसामान्य तौर पर पाया जाता है |कभी कभी
साँस फूलना (Shortness of breath)नोवेल कोरोना वायरस में साँस की तकलीफ सामान्य है |नहींनहींसामान्य तौर पर पाया जाता है |
सर दर्द (Headache)कुछ मरीजों में ये कोरोनावायरस, फ्लू, एलर्जी और सर्दी ज़ुकाम के लक्षण में अंतरलक्षण पाया जाता है |बहुत कमसामान्य तौर पर पाया जाता है |कभी कभी
बदन दर्द (Body ache and pains)कभी कभीसामान्य तौर पर पाया जाता है |सामान्य तौर पर पाया जाता है |नहीं
गले में दर्द या खरास (Sore throat)सामान्यतः पाया जाता है |सामान्य तौर पर पाया जाता है |सामान्य तौर पर पाया जाता है |नहीं
थकावट (Fatigue)सामान्यतः पाया जाता है |कभी कभीसामान्य तौर पर पाया जाता है |कभी कभी
दस्त आना (Diarrhoea)बहुत कम लोगों में होता है |नहीं पाया जाताकभीनहीं
नाक से पानी आना (Runny nose)आमतौर पर नहीं पाया जाता है |सामान्य तौर पर पाया जाता है |कभीसामान्य तौर पर पाया जाता है |
छींक आना (Sneezing)नहीं पाया जाता है |सामान्य तौर पर पाया जाता है |नहींसामान्य तौर पर पाया जाता है |

2019 नोवेल कोरोनावायरस| Wuhan Coronavirus in Hindi | 2019 Novel Coronavirus in Hindi

कोरोनावायरस – Coronavirus in Hindi 

कोरोनावायरस वायरस का एक बड़ा परिवार है जो सामान्य सर्दी से लेकर गंभीर बीमारियों जैसे मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (MERS-CoV) और सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (SARS-CoV) का कारण बनता है। नोवेल कोरोनावायरस (nCoV) एक नया स्ट्रेन है जो इससे पहले मनुष्यों में नहीं पाया गया है। 

विषय सूची :-

  1. नोवेल कोरोनावायरस – 2019 Novel Coronavirus (2019-nCoV) in Hindi
  2. नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास – History of 2019 Novel Coronavirus (2019-nCoV) in Hindi
  3. भारत में कोरोनावायरस – 2019 Novel Coronavirus (2019-nCoV) in India
  4. दुनिया भर में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या – Worldwide Corona outbreak
  5. कोरोनावायरस कैसे फैलता है – How Coronavirus Spread
  6. नोवेल कोरोनावायरस के संकेत और लक्षण – Symptoms of 2019 Novel Coronavirus in Hindi
  7. कोरोनावायरस से बचाव – Prevention from novel corona virus in Hindi
  8. नोवेल कोरोनावायरस का इलाज – Treatment of Novel Coronavirus
  9. हार्ट अटैक के बाद क्या खाना चाहिए
  10. हार्ट अटैक के कारण , लक्षण , बचाव और इलाज के बारे में
  11. ह्रदय सम्बंधित छाती के दर्द और गैर ह्रदय सम्बंधित छाती के दर्द की पहचान
  12. अनिद्रा या नींद ना आना, कारण बचाव और इलाज
  13. 10 दिनों में वज़न कम करने का डाइट प्लान
  14. डायबिटीज की पूरी जानकारी 
कोरोनावायरस , नोवेल कोरोनावायरस, coronavirus, novel coronavirus, wuhan coronavirus
Corona virus in Wuhan china

नोवेल कोरोना वायरस – 2019 Novel Coronavirus in Hindi

2019 के नोवेल  कोरोनावायरस (2019-nCoV) को अनौपचारिक रूप से वुहान कोरोनावायरस (Wuhan Corona Virus) के रूप में जाना जाता है जो एक संक्रामक वायरस है जो खतरनाक साँस के रोग के संक्रमण का कारण बनता है। यह चल रहे 2019-20 वुहान कोरोनावायरस के प्रकोप का कारण है।

नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास – History of 2019 Novel Coronavirus in Hindi

नोवेल कोरोनावायरस (2019-nCoV) का पहला ज्ञात मानव संक्रमण दिसंबर 2019 की शुरुआत में हुआ था। 2019-nCoV का प्रकोप पहली बार दिसंबर 2019 के मध्य में वुहान में पाया गया था, जो संभवतः एक संक्रमित जानवर से उत्पन्न होता है।

यह वायरस बाद में चीन के सभी प्रांतों और एशिया, यूरोप, उत्तरी अमेरिका और ओशिनिया के दो दर्जन से अधिक देशों में फैल गया।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने कहा कि 26 मार्च  २०२० तक लगभग ३२०० लोगों की मौत हो चुकी है और लगभग 81000 लोग मुख्य भूमि चीन में संक्रमित हैं।

भारत में कोरोनावायरस – 2019 Novel Coronavirus in India

भारत ने अब तक 719 से ज्यादा सकारात्मक मामले दर्ज किए हैं जिनमे से अबतक 16 लोगों की मृत्यु हो चुकी है |(सोर्स)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार – विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि भारतीयों को कोविद -19 कोरोनावायरस के प्रकोप से घबराने की जरूरत नहीं है। इंडिया टुडे के साथ बात करते हुए डब्लूएचओ के रीजनल इमर्जेंसी डायरेक्टर डॉ. रोड्रिको ओफ्रिन ने कहा कि भारतीयों को कोविद -19 कोरोनावायरस से घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि भारत में पॉजिटिव टेस्ट किए जाने वाले मामले संक्रमित देशों से आने वाले लोग हैं| भारत में इसके प्रकोप की सम्भावना बहुत कम है |

दुनिया भर में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या – Worldwide death from Coronavirus in Hindi

दुनिया भर में लगभग 492000 से ज्यादा लोग इस गंभीर बीमारी से संक्रमित हो चुके हैं, जिनमे से लगभग 119000 से ज्यादा लोग पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं लेकिन दुर्भाग्यवश 22000 से ज्यादा लोगों की मृत्यु भी हो चुकी है | बाकी बचे लोगों में लगभग 17000 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से बीमार हैं |(सोर्स)

कोरोनावायरस कैसे फैलता है – How Coronavirus Spread in Hindi

यह वायरस संकर्मित व्यक्ति के खांसने और छीकने से एयर ड्रापलेट्स के ज़रिये एक से दुसरे व्यक्ति में फैलता है, ये एयर ड्रापलेट्स संकर्मित व्यक्ति के छीकने के बाद 6 मीटर की दुरी तक फैलते हैं|

transmission
coronavirus transmission

इन सभी क्षेत्रों में वायरस के मानव-से-मानव प्रसार की पुष्टि की गई है। 30 जनवरी 2020, 2019-nCoV को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा एक वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल(global health emergency) नामित किया जा चुका है।

कई शुरुआती मामलों को एक बड़े समुद्री भोजन और पशु बाजार से जोड़ा गया था, और वायरस को एक जूनोटिक मूल माना जाता है।

इस वायरस और अन्य वायरस के नमूनों के जेनेटिक सीक्वेंस की तुलना SARS-CoV (79.5%) और बैट कोरोनावायरसेस  (96%) के समान है। इससे ये पता चलता है कि ये वायरस मूल रूप से चमगादड़ के ज़रिये फैलता है ,हालांकि ऐसा माना  जाता है कि ये वायरस पैंगोलिन के ज़रिये भी फैल सकता है।

कोरोनावायरस ज़ूनोटिक हैं, जिसका अर्थ है कि ये जानवरो और लोगों के बीच संचारित होता हैं।

विस्तृत जांच में पाया गया कि SARS-CoV को केवेट बिल्लियों से मनुष्यों और MERS-CoV से ड्रोमेडरी ऊंटों से मनुष्यों में स्थानांतरित किया गया। कई ज्ञात कोरोनावायरस उन जानवरों में घूम रहे हैं जिन्होंने अभी तक मनुष्यों को संक्रमित नहीं किया है।

कोरोनावायरस के संकेत और लक्षण – Symptoms of Coronavirus in Hindi

coronavirus transmission data
Coronavirus transmission data till 31 January 2020

संक्रमण के सामान्य लक्षणों में साँस संबंधी लक्षण, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ और सांस लेने में कठिनाई शामिल हैं। अधिक गंभीर मामलों में, संक्रमण से निमोनिया, सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम , गुर्दे का फेल होना और यहां तक​कि मृत्यु भी हो सकती है।

what is coronavirus?
what is coronavirus?

कोरोनावायरस से बचाव – Coronavirus prevention in Hindi

कोरोनावायरस
  • सरकार के अगले आदेश तक घर में रहें, क्यूंकि बचाव ही इलाज़ है|
  • कोरोना वायरस का आकार बड़ा होता है जहाँ कोशिका का आकार 400-500 माइक्रो होता है और इस कारण से ‘कोई भी मास्क’ पहनकर इसके प्रवेश को रोका जा सकता है।
  • इस वायरस हवा में नहीं बसता है बल्कि जमीन पर टिका होता है, इसलिए ये वायरस वायु के द्वारा नहीं फैलता है |
  • कोरोना वायरस, जब यह एक धातु की सतह पर गिरता है, तो यह 12 घंटे तक जीवित रहता है , इसलिए ‘साबुन और पानी से हाथ धोना’ इससे बचाव का अच्छा तरीका है|
  • कपड़ों पर पड़ने वाला कोरोना वायरस 9 घंटे तक रहता है, इसलिए ‘कपड़े धोना’ या ‘दो घंटे के लिए सूरज के संपर्क में आना’ वायरस को ख़त्म कर सकता है|
  • वायरस हाथों पर 10 मिनट तक रहता है, इसलिए स्टरलाइज़र का उपयोग वायरस से रोकथाम के उद्देश्य को पूरा करता है।
  • यह वायरस 26-27 डिग्री सेल्सियस के तापमान के संपर्क में आने पर ख़त्म होने लगते हैं,  क्योंकि यह गर्म प्रदेशों में जीवित नहीं रह सकते हैं। ‘गर्म पानी पीने और धूप में समय बिताने से ,आइसक्रीम और ठंडे खाने से दुरी बनाकर इससे बचा जा सकता है|
  • गर्म और नमक के पानी से गरारे करने से गले के कीटाणु मर जाते हैं और उन्हें फेफड़ों में जाने से रोकता है।

नोवेल कोरोना वायरस से बचने का सामान्य तरीका –

  • सरकार के अगले आदेश तक घर में रहें |
  • खांसने और छींकने पर नियमित रूप से हाथ धोना, मुंह और नाक को ढंकना, मांस और अंडे को अच्छी तरह से पकाना। खांसी और छींकने जैसी सांस की बीमारी के लक्षण दिखाने वाले किसी के भी निकट संपर्क से बचें।
  • अपने हाथों को साबुन और पानी से बार-बार धोएं या यदि आपके हाथ संभवतः गंदे न हों तो हैण्ड सैनीटाइज़र से हाथ रगड़ें।
  • खांसने और छींकने पर मुंह और नाक को टिश्यू से ढक दें – टिशू को तुरंत बंद डिब्बे में फेक दें और अपने हाथों को हैण्ड सैनीटाइज़र से  रगड़ें या साबुन और पानी से साफ करें।
  • अपने और अन्य लोगों के बीच कम से कम 1 मीटर (3 फीट) की दूरी बनाए रखें, विशेष रूप से जो लोग खांस रहे हैं, छींक रहे हैं और बुखार से पीड़ित है।
  • आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें क्योंकि यदि आप अपने दूषित हाथों से अपनी आंखों, नाक या मुंह को छूते हैं, तो आप वायरस को सतह से खुद में फैला सकते हैं।
  • यदि आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई है, तो जल्दी से जल्दी चिकित्सक से संपर्क करें। अपने  चिकित्सक को बताएं कि क्या आपने चीन के किसी ऐसे क्षेत्र में यात्रा की है, जहां 2019-nCoV की सूचना दी गई है, या यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति के निकट संपर्क में हैं, जिसने चीन से यात्रा की है और उसके श्वसन संबंधी लक्षण हैं।
  • यदि आपको हल्के श्वसन लक्षण हैं और चीन में या उसके भीतर कोई यात्रा इतिहास नहीं है, तो मूल श्वसन और हाथ की स्वच्छता का सावधानीपूर्वक अभ्यास करें और जब तक संभव हो, ठीक होने तक घर पर रहें।
  • एक सामान्य एहतियात के तौर पर, जीवित पशु बाजारों, गीले बाजारों या पशु उत्पाद बाजारों का दौरा करते समय सामान्य स्वच्छता उपायों का अभ्यास करें|
coronavirus prevention
coronavirus prevention

नोवेल कोरोना वायरस का इलाज – Coronavirus treatment in Hindi

2019-nCoV संक्रमण के लिए कोई स्पेसिफिक एंटीवायरल उपचार नहीं है। 2019-nCoV से संक्रमित लोगों को लक्षणों से राहत पाने के लिए सहायक देखभाल प्राप्त करनी चाहिए।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*